वक्त का क्या गुनाह है ?

वक्त मै बर्बाद करता हुवक्त का क्या गुनाह है ?थम जाये भले ज़िन्दगीदौड़ने में भी तो इज़्तिरार हैकभी चाय की चुस्कियां ही ले लो ,उस धुवे में छिपे नशे का सुकून अलग है .. वक्त मै बर्बाद करता हुवक्त का क्या गुनाह है ?इन दूरियों का भले हो गम ,किसी आशिक़ के मोहब्बत काइख़्तिताम भीContinue reading “वक्त का क्या गुनाह है ?”

दिल की कौन सुनता है ?

दिल ने चाहा मगर ,दिल की कौन सुनता है ?कदम बढे रहाइश की औरदिल में बसी उमंग है ,इंतजार शुरू किया इफ्तिकार से ,पर इंतजार इम्तहान बन गया है … दिल ने चाहा मगर ,दिल की कौन सुनता है ?जिससे मोहब्बत की थी जनाब ,धुंदला उसका नफ़्स है ,आयने के परामर्श से शुरू किया प्यारContinue reading “दिल की कौन सुनता है ?”

Mother earth is healing.. (Part 2)

Walkin down the uphill street,He crossed the bridge, amid blue skies, They turned dark cloudy climbing up the hills,A moment of cold, surrounding nature divine soon the drops of rain drizzled through his spines,The flora and fauna rejuvenated, formed the biome of its own kind, It wasn’t a miracle, just a blessing bestowed upon usContinue reading “Mother earth is healing.. (Part 2)”

Mother earth is healing.. (Part 1)

Walkin down the uphill Street,He quit the commute, quit the ride Something was scary about it todayDeadliest silence marked the night, The walk of ghost through the woods,The wild posed for lens, for the rarest of the times,It wasn’t all scary, it’s just no noise My Mother earth was healing,It’s a moment of pride… WalkinContinue reading “Mother earth is healing.. (Part 1)”

Create your website at WordPress.com
Get started