दिल की कौन सुनता है ?

दिल ने चाहा मगर ,
दिल की कौन सुनता है ?
कदम बढे रहाइश की और
दिल में बसी उमंग है ,
इंतजार शुरू किया इफ्तिकार से ,
पर इंतजार इम्तहान बन गया है …

दिल ने चाहा मगर ,
दिल की कौन सुनता है ?
जिससे मोहब्बत की थी जनाब ,
धुंदला उसका नफ़्स है ,
आयने के परामर्श से शुरू किया प्यार ,
दीवाने हम नहीं , आयना बन गया है …

दिल ने चाहा मगर ,
दिल की कौन सुनता है ?
ज़ालिम इस दुनिया में ,
कही साप , कही सपेरा है ,
खुदा की इख़्तियार से शुरू किया कर्म ,
हे मंज़िल – इ – मक़सूद ,
आज क़ाबलियत का लुटेरा ,
छोटासा कीटाणु बन गया है …

Published by अखिलेश कुलकर्णी

मराठी व इंग्रजी साहित्याला जोपासणारा एक कोवळा लेखक व कवी .

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create your website at WordPress.com
Get started
%d bloggers like this: